आरबीआई ने बैंक के बड़े पदों पर आसिन कर्मचारियों पर कसा शिकंजा, किया ये बड़ा बदलाव
Post By : CN Rashtriya Webdesk   |  Posted On: 2 months ago  |  227

आरबीआई ने बैंक के बड़े पदों पर आसिन कर्मचारियों पर कसा शिकंजा, किया ये बड़ा बदलाव

नयी दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई ) ने बैंक में ़  ऋण घोटाला न हो इस पर लगाम लगाने के लिए बैंकों के ऋण के नियमों को चेंज कर दिया है। आरबीआई  ने िनदेशक के लिए पर्सनल लोन की लिमिट को संशोधित किया है। इस नए नियम के तहत बैंकों के बोर्ड डायरेक्टर्स और उनके परिवारों के लिए ऋण का लिमिटेशन 5 करोड़ रुपये  कर दिया गया है। आपको बता दें कि पहले किसी भी बैंक डायरेक्टर के लिए पर्सनल लोन की लिमिटेशन 25 लाख रुपये थी।

नए नियम 

आरबीआई की तरफ से जारी एक सर्कुलर में कहा गया है कि बैंकों को अपने स्वयं के बैंक और अन्य बैंकों के चेयरमैन और प्रबंध िनदेशक या अन्य निदेशक के पति या पत्नी और आश्रित बच्चों के अलावा किसी भी रिश्तेदार को 5 करोड़ रुपये से अधिक लोन देने की अनुमति नहीं है। साथ ही यह भी कहा गया है कि किसी भी फर्म के मामले में भी लागू होती है जिसमें पति या पत्नी और आश्रित बच्चों के अलावा कोई भी रिश्तेदार पार्टनर, प्रमुख शेयरहोल्डर या निदेशक है।

ऋण को लेकर बोर्ड को सूचना देना

आरबीआई ने कहा कि उधार लेने वालों को 25 लाख या 5 करोड़ से कम की ऋण सुविधाओं के प्रस्तावों को ही अथॉरिटी की तरफ से मंजूरी दी जा सकेगी। लेकिन सभी दस्तावेजों के साथ बोर्ड को सूचित किया जाना चाहिए। इसके बाद ही बोर्ड इस पर निर्णय करेगा।

पद का दुरुपयोग

दरअसल इसके पहले भी कई ऐसे ऋण सामने आ चुके हैं जिसमें मौजूदा निदेशक ने अपने परिवार के सदस्यों को ऋण देने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया। आईसीआईसीआई बैंक की पूर्व एमडी और सीईओ चंदा कोचर से लेकर कई बड़ी हस्तियों पर ऐसे आरोप है कि उन्होंने वीडियोकॉन को 3250 करोड़ का ऋण देने के लिए अपने आधिकारिक पद का दुरुपयोग किया था। ऐसे में आरबीआई अब इस पर भी सख्ती दिखा रहा है।

वीडियो