अक्षय तृतीया विशेष : अक्षय तृतीया के दिन करें यह काम, भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी करें मनोकामनाएं पूरी
Post By : CN Rashtriya Webdesk   |  Posted On: 4 months ago  |  288

अक्षय तृतीया विशेष : अक्षय तृतीया के दिन करें यह काम, भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी करें मनोकामनाएं पूरी

कल यानि 14 मई को अक्षय तृतीया है। अक्षय का अर्थ है जिसका क्षय न हो। हर साल बैशाख महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर अक्षय तृतीया का त्योहार मनाया जाता है। पंचांग के अनुसार अक्षय तृतीया को शुभ माना  गया है। इस दिन कोई भी शुभ काम करने के लिए मुहूर्त देखने की जरूरत नहीं पड़ती। शुभ कामों के लिए यह दिन बेहद ही शुभ माना जाता है। अक्षय तृतीया को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है। अक्षय तृतीया का दिन मां लक्ष्मी की कृपा पाने का सबसे शुभ और अच्छा दिन होता है।

अक्षय तृतीया को लेकर हिंदू धर्म में कई मान्यता है जैसे भगवान विष्‍णु के छठें अवतार माने जाने वाले भगवान परशुराम का जन्‍म हुआ था। परशुराम ने महर्षि जमदाग्नि और माता रेनुकादेवी के घर जन्‍म लिया था। यही कारण है कि अक्षय तृतीया के दिन भगवान विष्‍णु की उपासना की जाती है। इसदिन परशुरामजी की पूजा करने का भी विधान है। वहीं बंगाल में इस दिन भगवान गणेशजी और माता लक्ष्मीजी का पूजन कर सभी व्यापारी अपना लेखा-जोखा (ऑडिट बुक) की किताब शुरू करते हैं। वहां इस दिन को ‘हलखता’ कहते हैं।

अक्षय तृतीया मुहूर्त:

14 मई अक्षय तृतीया पूजा मुहूर्त- 05:38 AM से 12:18 PM

अवधि- 06 घण्टे 40 मिनट

तृतीया तिथि प्रारम्भ- 14 मई 2021 को 05:38 AM बजे

तृतीया तिथि समाप्त- 15 मई 2021 को 07:59 AM बजे

अक्षय तृतीया की पूजा विधि : इस दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा आराधना की जाती है। इस दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर नहाने के पानी में गंगा जल मिलाकर स्नान करना चाहिए। इसके बाद श्री विष्णुजी और मां लक्ष्मी की प्रतिमा पर अक्षत चढ़ाना चाहिए। फूल या श्वेत गुलाब, धुप-अगरबत्ती इत्यादि से इनकी पूजा अर्चना करनी चाहिए। नैवेद्य स्वरूप जौ, गेंहू या फिर सत्तू, ककड़ी, चने की दाल आदि का चढ़ावा चढ़ाना चाहिए।  अक्षय तृतीया को स्वर्ण खरीदना शुभ माना गया है

अक्षय तृतीया पर करें ये काम :

पात्र का दान : हिंदू धर्म ग्रंथों के मुताबिक अक्षय तृतीया के दिन दान को बहुत महत्वपूर्ण मन गया है इस दिन जल का कोई पात्र जैसे गिलास, घड़ा  आदि का दान करना चाहिए। 

गाय की सेवा : हिन्दुओं में गाय को शुभ माना जाता है। ऐसे में अक्षय तृतीया के दिन गाय की सेवा करना बेहद शुभ माना गया है, गाय की सेवा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। इस दिन गाय को गुड़ खिलाना चाहिए। रोटी में गुड़ लपेटकर या पानी में गुड़ मिला कर जय को खिलाना चाहिए। ऐसा करने से पुण्य की प्राप्ति होती है।  

जौ दान करना :  इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। उनके चरणों में जौ अर्पित करना चाहिए। उसके बाद भगवान विष्णु की पूजा करके जौ को लाल कपडे में बांधकर तिजोरी में रखें।  मान्यता है कि ऐसा करने से तिजोरी कभी खाली नहीं होगी। हिंदू धर्म शास्त्रों में जौ को कनक अर्थात सोने के समान माना गया है। अक्षय तृतीया को स्वर्ण खरीदना शुभ माना गया है। 

अन्न दान: हिंदू धर्म में अन्न दान को महादान की जगह प्राप्त है। अक्षय तृतीया के दिन अन्न का दान करना बहुत ही पुण्य और फलदायी माना गया है। इस लिए इस दिन जरूरतमंद लोगों को अन्न का अर्थात चावल, आटा और दाल आदि का दान देना चाहिए। 

वीडियो