इस रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीनेशन के बाद नहीं जाना पड़ा आईसीयू में
Post By : CN Rashtriya Webdesk   |  Posted On: 3 months ago  |  368

इस रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीनेशन के बाद नहीं जाना पड़ा आईसीयू में

देश में कोरोना ने तांडव मचा रखा है। रोजाना कोरोना से लाखों लोग संक्रमित हो रहे है और हजारों की संख्या में कोरोना मरीजों की मौत हो रही है। वहीं  निपटने के लिए देश में कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान चलाई जा रही है। ऐसे में लोगों के जहन में कई सवाल भी उठ रहे है कि वैक्सीन लगवाने के बाद कितना फायदेमंद है। एक रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीन लगाने वालों को  कोरोना से काफी हद तक सुरक्षा मिली है। इससे वैक्सीन से संकोच करनेवालों की भी झिझक दूर होने में मदद मिलेगी। इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल के रिसर्च के मुताबिक वैक्सीनेशन के बाद मात्र 0.06 फीसदी लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ी और वैक्सीनेशन से 97.38 फीसदी लोगों को वायरस से सुरक्षा मिली। इस रिसर्च में पहले 100 दिनों में कोविशील्ड वैक्सीन पर रिसर्च किया गया था। 

अपोलो अस्पताल के ग्रुप मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर अनुपम सिबल ने न्यूज एजेंसी से कहा,"वर्तमान में कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर में संक्रमण के मामलों में बड़ी बढ़ोतरी दर्ज की गई है, वैक्सीनेशन अभियान के दौरान जो जारी है। वैक्सीनेशन के बाद भी संक्रमण की खबरें उजागर हुई हैं। ये संक्रमण आंशिक या पूरी तरह वैक्सीनेशन के बाद कुछ लोगों में हो सकता है।" उन्होंने ये भी कहा कि रिसर्च से संकेत मिलता है कि कोविड-19 वैक्सीनेशन से 100 फीसद सुरक्षा नहीं मिलती है। 

उन्होंने आगे बताया कि रिसर्च में यह देखा गया कि वैक्सीन लगवा चुके लोगों को 97.38 फीसदी संक्रमण से सुरक्षा मिली और अस्पताल में सिर्फ 0.06 फीसदी लोग भर्ती हुए है। वहीं उन्होंने बताया कि मरीजों को आईसीयू में नहीं जाना पड़ा साथ ही कोई मौत नहीं हुई। उन्होंने यह रिसर्च 3,235 स्वास्थ्य कर्मियों पर किया गया था। रिसर्च के दौरान सिर्फ 85 स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना का संक्रमण हुआ था। उनमें से 65 स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन के दोनों डोज दिए गए थे और 20 को आंशिक कोविड-19 वैक्सीन की डोज लगाई गई थी। रिसर्च से ये भी पता चला कि महिलाएं स्पष्ट रूप से ज्यादा प्रभावित हुईं और उम्र ने संक्रमण की घटना को प्रभावित नहीं किया। 

वीडियो