148 वर्ष बाद बन रहा अदभुत संयोग, वट सावित्री व्रत, शनि जयंती और सूर्य ग्रहण एक साथ
Post By : CN Rashtriya Webdesk   |  Posted On: 2 months ago  |  190

148 वर्ष बाद बन रहा अदभुत संयोग, वट सावित्री व्रत, शनि जयंती और सूर्य ग्रहण एक साथ

148 वर्ष बाद यहां अदभुत संयोग बन रहा है। यह संयोग 10 जून को पड़ रहा है इस दिन साल का पहला सूर्य ग्रहण , वट सावित्री व्रत व शनि जयंती एक साथ तीनों है। भारत में सूर्य ग्रहण का धार्मिक महत्‍व काफी अधिक है। धार्मिक तौर पर यदि देखा जाए तो ये वट सावित्री व्रत के दिन लग जा रहा है। इसके अलावा इसी दिन शनि जयंती और ज्येष्ठ अमावस्या भी पड़ रही है। धार्मिक रूप से इसका महत्‍व और अधिक इसलिए भी बढ़ जाता है क्‍योंकि शनि जयंती पर ग्रहण का योग करीब 148 साल बाद बन रहा है। इससे पहले 26 मई 1873 को शनि जयंती के दिन ग्रहण पड़ा था। हालांकि धार्मिक दृष्टि से इस तरह की घटना को शुभ नहीं माना जाता है।

भारत में यहां देख सकेंगे ग्रहण

अगर सूर्य ग्रहण के देखने की बात करें तो यह भारत के अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख में ही दिखाई देगा। भारतीय घंड़ी के अनुसार ये दोपहर 1.42 बजे शुरू  होगा और शाम 6.41 बजे खत्म हो जाएगा। भारत की बात करें तो इसे शाम लगभग 5:52 बजे इसे अरुणाचल प्रदेश में दिबांग वन्यजीव अभयारण्य के पास से देखा जा सकेगा। वहीं, लद्दाख के उत्तरी हिस्से में ये शाम लगभग 6 बजे दिखाई देगा। 

रिंग ऑफ फायर की रहेगी स्थिती

घटना उस वक्‍त घटती है जब सूर्य, चंद्रमा और पृथ्वी एक सीधी रेखा में आ जाते हैं। ऐसे में कुछ समय के लिए चंद्रमा पूरी तरह से सूर्य की रोशनी को रोक देता है। ऐसे में सूर्य ग्रहण होता है। जब चंद्रमा के पीछे से धीरे-धीरे सूर्य की रोशनी बाहर आती है तो एक समय इसकी चमक किसी हीरे की अंगूठी की तरह प्रतीत होती है, जिसको रिंग ऑफ फायर भी कहा जाता है।

विश्व में यहां दिखेगा ग्रहण का नजारा

इस घटना को उत्तरी अमेरिका, उत्तरी कनाडा, यूरोप और एशिया, ग्रीनलैंड, रूस के बड़े हिस्‍से में भी देखा जा सकेगा। हालांकि कनाडा, ग्रीनलैंड तथा रूस में वलयाकार जबकि उत्तर अमेरिका के अधिकांश हिस्सों, यूरोप और उत्तर एशिया में आंशिक सूर्य ग्रहण ही दिखाई देगा। वलयाकार सूर्य ग्रहण में चंद्रमा सूरज को इस तरह से ढक लेता है कि उससे केवल सूरज का बाहरी हिस्सा ही प्रकाशमान के तौर पर दिखाई देता है। इस दौरान सूरज का मध्‍य हिस्‍सा पूरी तरह से चंद्रमा के पीछे ढक जाता है।

वीडियो